Deen Dayal Upadhyay Gorakhpur University

Department of Fine Arts


यद्यपि ललितकला एवं संगीत विभाग में स्नातक स्तर पर अध्ययन-अध्यापन 1958 से ही हो रहा है। तथापि स्नातकोत्तर स्तरीय पठन-पाठन चित्रकला में 1981 से और व्यवहारिक कला में 1988 से प्रारम्भ हुआ है। वर्तमान में विभाग द्वारा निम्नलिखित विषयों में स्नातकोत्तर स्तर का अध्यापन हो रहा है। द्श्यकला (ललितकला), द्श्यकला (संप्रेषण कला), द्श्यकला (मूर्तिकला) एवं मंचकला (गायन), मंचकला (व़ादन), मंचकला (ताल वाद्य)। इस विषय में अब तक 28 छात्र-छात्रायें पी0एच-डी0 उपाधि प्राप्त कर चुके हैं। इस विभाग से शिक्षित-दीक्षित अनेक छात्र-छात्राओं ने देश के विभिन्न शहरों में पत्रकारिता, क्रियेटिव आर्ट, टेक्सटाईल डिजाइनिंग, कार्टूनिंग, फैशन डिजाइनिंग, एडवरटाइजिंग एजेन्सी, आर्ट डाईरेक्सन, थियेटर, सेट डिजाइनिंग आदि के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य किया है। विभागीय छात्र-छात्राओं द्वारा क्षेत्रीय राज्य स्तरीय एवं अखिल भारतीय प्रदर्शनियों में भागीदारी भी उल्लेखनीय है।

.