Deen Dayal Upadhyay Gorakhpur University
पत्रकारिता में स्नातक उपाधि (बी0जे0) प्रवेश परीक्षा 2010 का पाठ्यक्रम-

अर्हता- (1) बी0जे0 में प्रवेश हेतु किसी मान्यता प्राप्त वि0वि0 का स्नातक या अन्य किसी संस्थान का समकक्ष उपाधिधारी अभ्यर्थी ही अर्ह होगा।
(2) योग्यता प्रदायी परीक्षा (स्नातक) के उपरान्त तीन वर्ष तक ही कोई अभ्यर्थी बी0जे0 प्रवेश परीक्षा में सम्मिलित हो सकेगा।
(3) यह एक नियमित पाठ्यक्रम है। इसमें प्रवेश लेने वाले अभ्यर्थी को वि0वि0 द्वारा संचालित किसी अन्य डिग्री या डिप्लोमा पाठ्यक्रम में प्रवेश लेने की छूट नहीं होगी।
प्रवेश परीक्षा में प्रश्न पत्र के दो खण्ड होंगे। पहला खण्ड 100 अंका का एवं एक घण्टे की अवधि का होगा, जिसमें 100 वस्तुनिष्ठ प्रश्न होंगे। दूसरा खण्ड 50 विवरणात्मक लघुउत्तरीय प्रश्नों का होगा। इनकी अवधि 2 घण्टे एवं पूर्णांक 100 अंक का होगा।
पाठ्यक्रम
भारत के प्रमुख समाचार पत्र, हिन्दी के पत्र एवं पत्रिकाएं उनके सम्पादक, भारत तथा विश्व की प्रमुख संवाद समितियाँ, सम-सामयिक राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय प्रश्न, संयुक्त एवं ध्रुवीय राजनीति, गुट निरपेक्ष आन्दोलन, सोवियत संघ का विघटन तथा अमेरिकी साम्राज्यवाद, सार्क संगठन, ईरान-इराक, फिलीस्तीन तथा खाड़ी की समस्याएं। भारत और पड़ोसी देश, चीन पाकिस्तान, श्रीलंका, बंगला देश, नेपाल आदि। संयुक्त राष्ट्र और उसकी भूमिका।
विश्व के प्रमुख खेल और उनके खिलाड़ी, प्रसिद्ध पुस्तकें और उनके लेखक, इतिहास की प्रमुख घटनाएं तथा तिथियां, भारत तथा विश्व का भूगोल, प्रमुख वैज्ञानिक एवं उनके आविष्कार। विश्व तथा भारत के प्रमुख राजनीतिक एवं सामाजिक व्यक्ति। राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय अलंकरण एवं पुरस्कार।
भारत की नयी आर्थिक नीति, उदारीकरण, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, जनसंख्या विस्फोट तथा पर्यावरण आदि की समस्याएं भारत का अन्तरिक्ष कार्यक्रम। कश्मीर में आतंकवाद, सीमान्त एवं पूर्वोत्तर राज्यों की समस्याएं। स्वतन्त्रता आन्दोलन के प्रमुख नेता तथा उनका योगदान। पत्रकारिता एवं जनसंचार से संबंधित सामान्य जानकारी।
 

 

vgZrk&  1      ch0ts0 esa izos'k gsrq fdlh ekU;rk izkIr fo0fo0 dk Lukrd ;k vU; fdlh laLFkku dk led{k mikf/k/kkjh vH;FkhZ gh vgZ gksxkA

        2      ;ksX;rk iznk;h ijh{kk Lukrd ds mijkUr rhu o"kZ rd gh dksbZ vH;FkhZ ch0ts0 izos'k ijh{kk esa lfEefyr gks ldsxkA

        3      ;g ,d fu;fer ikB~;e gSA blesa izos'k ysus okys vH;FkhZ dks fo0fo0 }kjk lapkfyr fdlh vU; fMxzh ;k fMIyksek ikB~;e esa izos'k ysus dh NwV ugha gksxhA

                Ikzos'k ijh{kk esa iz'u i= ds nks [k.M gksaxsA igyk [k.M 100 vadk dk ,oa ,d ?k.Vs dh vof/k dk gksxk]  ftlesa 100 oLrqfu"B iz'u gksaxsA nwljk [k.M 50 fooj.kkRed y?kqmRrjh; iz'uksa dk gksxkA budh vof/k 2 ?k.Vs ,oa iw.kkZad 100 vad dk gksxkA

ikB~;e

        Hkkjr ds izeq[k lekpkj i=] fgUnh ds i= ,oa if=dk,a muds lEiknd] Hkkjr rFkk fo'o dh izeq[k laokn lfefr;k] le&lkef;d jk"Vh; ,oa vUrjkZ"Vh; iz'u] la;qDr ,oa /kzqoh; jktuhfr] xqV fujis{k vkUnksyu] lksfo;r la?k dk fo?kVu rFkk vesfjdh lkezkT;okn] lkdZ laxBu] bZjku&bjkd] fQyhLrhu rFkk [kkM+h dh leL;k,aA Hkkjr vkSj iM+kslh ns'k] phu ikfdLrku] Jhyadk] caxyk ns'k] usiky vkfnA la;qDr jk"V vkSj mldh HkwfedkA

        fo'o ds izeq[k [ksy vkSj muds f[kykM+h] izfl) iqLrdsa vkSj muds ys[kd] bfrgkl dh izeq[k ?kVuk,a rFkk frfFk;ka] Hkkjr rFkk fo'o dk Hkwxksy] izeq[k oSKkfud ,oa muds vkfo"dkjA fo'o rFkk Hkkjr ds izeq[k jktuhfrd ,oa lkekftd O;fDrA jk"Vh; ,oa vUrjkZ"Vh; vyadj.k ,oa iqjLdkjA

        Hkkjr dh u;h vkfFkZd uhfr] mnkjhdj.k] csjkstxkjh] Hkz"Vkpkj] tula[;k foLQksV rFkk Ik;kZoj.k vkfn dh leL;k,a Hkkjr dk vUrfj{k dk;ZeA d'ehj esa vkradokn] lhekUr ,oa iwoksZRrj jkT;ksa dh leL;k,aA LorU=rk vkUnksyu ds izeq[k usrk rFkk mudk ;ksxnkuA i=dkfjrk ,oa tulapkj ls lacaf/kr lkekU; tkudkjhA